100+ (BEST) Gulzar Shayari on Love, Dosti in Hindi, English

Gulzar is a great poet. He loves to write on love, friendship, life, sadness and views…and the list goes on. Here you will find the best collection of Gulzar Shayari. I hope you like it !

Shayari on love, dosti, pyar, and friendship are very heart touching shayari for WhatsApp and Facebook. You can also share these shayari with your friends, family members and relatives on social media sites.

Gulzar has penned his poetry in three languages Urdu, Hindi and English and he is a versatile writer known for his ability to touch people’s heart by writing subtle and deep but very simple poetry.

Advertisement

Gulzar Shayari

Nothing best shows your affection to your loved ones like a poem can. We have collected some of the best Gulzar Shayari on Love, Dosti in Hindi and English for you.

You will find all kinds of shayari here, which you can use as a Whatsapp Status, Facebook Updates and any other Social Media Platform.

  • आँधी से कोई कह दे की औक़ात में रहे !!
  • कोई पुछ रहा हैं मुझसे मेरी जिंदगी की कीमत, मुझे याद आ रहा है तेरा हल्के से मुस्कुराना।”
  • मोहब्बत आपनी जगह, नफरत अपनी जगह मुझे दोनो है तुमसे.
Gulzar Shayari
Gulzar Shayari
  • आइना देख कर तसल्ली हुई, हम को इस घर में जानता है कोई।
  • सहर न आई कई बार नींद से जागे थी रात रात की ये ज़िंदगी गुज़ार चले

शाख़ों से टूट जाये वो पत्ते नहीं हम, मैं दिया हूँ! मेरी दुश्मनी तो सिर्फ अँधेरे से हैं, हवा तो बेवजह ही मेरे खिलाफ हैं। “

Advertisement
Advertisement
  • कोई अटका हुआ है पल शायद वक़्त में पड़ गया है बल शायद
  • जो आज करते हैं नजरअंदाज तुम बुरा क्या मालूम टूटकर पागलों की तरह मोहब्बत तो सिर्फ मैंने ही की थी।
  • मुझसे तुम बस मोहब्बत कर लिया करो, नखरे करने में वैसे भी तुम्हारा कोई जवाब नहीं!
  • बिगड़ैल हैं ये यादे, देर रात को टहलने निकलती हैं।
    Advertisement
Gulzar Shayari
Gulzar Shayari
  • हज़ार बार ज़माना इधर से गुज़रा है नई नई सी है कुछ तेरी रहगुज़र फिर भी देखा कर दर्द किसी और का जो आह दिल से निकल  है बस इतनी सी बात ही तो आदमी को इंसान बनती है।
  • हम समझदार भी इतने हैं के उनका झूठ पकड़ लेते हैं और उनके दीवाने भी इतने के फिर भी यकीन कर लेते है
  • Advertisement
  • बड़े शौक से बनाया तुमने मेरे दिल में अपना घर जब रहने की बारी आई तो तुमने ठिकाना ही बदल दिया।

शाख़ों से टूट जाये वो पत्ते नहीं हम, उसने कागज की कई कश्तिया पानी उतारी और, ये कह के बहा दी कि समन्दर में मिलेंगे। “

Advertisement
  • आँधी से कोई कह दे की औक़ात में रहे !! कभी जिंदगी एक पल में गुजर जाती हैं, और कभी जिंदगी का एक पल नहीं गुजरता। “
  • Advertisement
  • दौलत नहीं शोहरत नहीं,न वाह चाहिए “कैसे हो?” बस दो लफ़्जों की परवाह चाहि दुपट्टा क्या रख लिया सर पे वो दुल्हन नजर आने लगी उसकी तो अदा हो गयी जान हमारी जाने लगी.
  • प्यार में कितनी बाधा देखि, फिर भी कृष्ण के संग राधा देखि.
Gulzar Shayari
Gulzar Shayari
  • आँधी से कोई कह दे की औक़ात में रहे !! तेरे जाने से तो कुछ बदला नहीं, रात भी आयी और चाँद भी था, मगर नींद नहीं।”
  • सामने आए मेरे, देखा मुझे, बात भी की, मुस्कुराए भी, पुरानी किसी पहचान की ख़ातिर, कल का अख़बार था, बस देख लिया, रख भी दिया।।

Gulzar Shayari Sad

If you are looking for Gulzar Shayari Sad then you are on the right site. Here we have a huge collection of quotes in Hindi.

Advertisement
  • बड़ी नादानी से पूछा उन्होंने, क्या अच्छा लगता हे, हमने भी धीरे से कह दिया, एक झलक आपकी.
  • तेरा ख्याल है जब ही तेरे ख्याल में मस्त हूँ ना दिल लाख मोहब्बत कर ले तुझसे पर तेरा तो दोस्त हूँ ना मैं।
  • शाख़ों से टूट जाये वो पत्ते नहीं हम, वो चीज़ जिसे दिल कहते हैं, हम भूल गए हैं रख के कहीं।”
  • किसने रास्ते मे चांद रखा था, मुझको ठोकर लगी कैसे।
  • आंख तो भर आयी थी पानी से, तेरी तस्वीर जल गयी कैसे।।।
Gulzar Shayari Sad
Gulzar Shayari Sad
  • वक़्त पे पांव कब रखा हमने, ज़िंदगी मुंह के बल गिरी कैसे।।
  • दूसरा मौका सिर्फ, मोहब्बत को दिया जाता हे, जिस शख्स से, मोहब्बत थी उसे नहीं.
  • तुझे चाहा बहुत पर कभी जताया नहीं दोस्ती का रिश्ता भी ना खोलो इसलिए कभी बताया भी नहीं।
  • कुछ बातें तब तक समझ में नहीं आती, जब तक ख़ुद पर ना गुजरे।

Related- Sad Status»


  • जो जाहिर करना पड़े, वो दर्द कैसा, और जो दर्द न समझ सके, वो हमदर्द कैसा.
  • जाओ ढूंढ लो हमसे ज्यादा चाहने वाला मिल जाए तो खुश रहना और ना मिले तो हम फिर भी तुम्हारे हैं।
  • शाख़ों से टूट जाये वो पत्ते नहीं हम, हम तो समझे थे कि हम भूल गए हैं उनको, क्या हुआ आज ये किस बात पे रोना आया?”
  • उधड़ी सी किसी फिल्म का एक सीन थी बारिश, इस बार मिली मुझसे तो गमगीन थी बारिश।
  • दर्द हल्का है साँस भारी है, जिए जाने की रस्म जारी है।
Gulzar Shayari Sad
Gulzar Shayari Sad
  • कुछ लोगों ने रंग लूट लिए शहर में इस के, जंगल से जो निकली थी वो रंगीन थी बारिश।।
  • सारी उम्र तुझे मेरी कमी रही हे, रब करे तेरी उम्र बहुत लम्बी रहे.
  • पकने दीजिये अपने इश्क़ को चाहत की धीमी आंच पे जनाब, इश्क़ में जल्दबाजी अक्सर जुर्मा साबित होती है।
  • आँधी से कोई कह दे की औक़ात में रहे !!
  • बेहिसाब हसरते ना पालिये, जो मिला हैं उसे सम्भालिये।”

Gulzar Shayari in Hindi 2 Lines

Gulzar Shayari in Hindi 2 Lines is best Collection of Gulzar Shayari with beautiful Hindi Poetry.

  • देर से गूंजते हैं सन्नाटे,  जैसे हम को पुकारता है कोई।
  • हवा गुज़र गयी पत्ते थे कुछ हिले भी नहीं, वो मेरे शहर में आये भी और मिले भी नहीं।।
  • मोहब्बत थी तो, चाँद था, उतर गई तो, दाग भी दिखने लगे.
  • मेरी कदर तुझे उस दिन समझ जाएगी जिस दिन तेरे पास दिलों को होगा मगर दिल से चाहने वाला कोई नहीं होगा।
  • जो उम्र भर भी न मिल सके, उसे उम्र भर चाहना इश्क हे.
Gulzar Shayari in Hindi 2 Lines
Gulzar Shayari in Hindi 2 Lines
  • किसी को न पाने से जिंदगी खत्म नहीं होती लेकिन किसी को पाकर खो देने से कुछ बाकी भी नहीं रहता।
  • शाख़ों से टूट जाये वो पत्ते नहीं हम, हम तो अब याद भी नहीं करते, आप को हिचकी लग गई कैसे? “
  • कभी जिंदगी एक पल में गुजर जाती है कभी जिंदगी का एक पल नहीं गुजरता
  • कभी तो ठहरेगा उसका भी सफर जो हमराह बन हमें राह में गुमराह कर गया।
  • आँधी से कोई कह दे की औक़ात में रहे !! रोई है किसी छत पे, अकेले ही में घुटकर, उतरी जो लबों पर तो वो नमकीन थी बारिश।

Related- Rahat Indori Shayari»


  • आदतन तुम ने कर दिए वादे, आदतन हमने ऐतबार किया।
  • तेरी राहो में बारहा रुक कर, हम ने अपना ही इंतज़ार किया।।
  • अब ना मांगेंगे जिंदगी या रब, ये गुनाह हमने एक बार किया।।।
  • इश्क उसे भी था, इश्क मुझे भी था, कम्बख्त, उम्र बिच में आगई.
  • मोहब्बत के बाद मोहब्बत करना तो मुमकिन है लेकिन किसी से टूट कर चाहना वह जिंदगी में एक बार ही होता है।
  • टूट जाना चाहता हूँ, बिखर जाना चाहता हूँ, में फिर से निखर जाना चाहता हूँ।
Gulzar Shayari in Hindi 2 Lines
Gulzar Shayari in Hindi 2 Lines
  • शाख़ों से टूट जाये वो पत्ते नहीं हम, दिल अगर हैं तो दर्द भी होंगा, इसका शायद कोई हल नहीं हैं।”
  • मानता हूँ मुश्किल हैं, लेकिन में गुलज़ार होना चाहता हूँ।।
  • हसरते पूरी न हो तो, न सही, पर ख्वाब देखना कोई, गुनाह तो नहीं.
  • नंबर तो नौकरी में कोई फर्क नहीं जनाब इंसान करता रहेगा रोता रहेगा मगर छोड़ेगा नहीं।

Gulzar Shayari in English

If you love reading poetry and want to read Gulzar Shayari in English then, you are on the right page. You’ll find a vast collection of Gulzar Shayari in English here.

  • “Zulf mein phansi hui khol denge baaliyaan. Kaan khinch jaaye agar, Kha lein meethi gaaliyan.”
  • Chaandi ugne lagi hai baalo mein..Ke umr tum par haseen lagti hai
  • Kitani Lambi Khaamoshi Se Guzara Hoon Un Se Kitana Kuchh Kehne Ki Koshish Ki
  • Dil Ҝe Rishte Haɱesha Ҝisɱat Se Hi bante Hain¸ Varna ɱulaqaat to Roz hazaron Se Hoti Hai.
  • Socho kitni khoobsurat hogi zindagi Jab dost, mohabbat aur humsafar Teeno ek hi insaan ho.
Gulzar Shayari in English
Gulzar Shayari in English
  • “Tere jaane se toh kucch badla nahin. Raat bhi aayi thi aur chand bhi tha. Haan magar…neend nahin.”
  • Wo cheez jise- Dil kehte hain, Hum bhool gaye hain rakh ke kahin…
  • Mehfil mein gale milkar vah dheere se keh gaye, Ye duniya ki rasm hai, ise mohobbat mat samajh lena!!
  • Wo Jo Surat per Sabki Haste Hain¸ unko tohfe main ek Aaina dijiye.
  • Galitya bhi hongi aur Galat bhi samjha jayega Yeh zindagi hai janab Yaha taarife bhi hogi Aur kosa bhi jaayega

Related- Love Shayari»


  • “Aane wala pal jane wala hai. Ho sake toh isme, Zindagi bita do, Pal jo yeh jaane wala hai.”
  • Zaayka alag sa hai mere lafzo ka. Ke Koi samajh nahi paata, Koi bhula nahi paata.
  • Aadatan tumne kar diye vaade, Aadatan humne aitbar kiya…Teri raahon mein baarhan ruk kar, Humne apna hi intezaar kiya…Ab naa mangenge zindagi yaa rab, Yeh gunaah humne jo ek baar kiya…!!
  • Kuch shikayte Bani Rahe to Behtar hai¸ chashni ɱein doobe Rishte wafadar Nahin Hote.
  • Kuch yuhi chalega tera mera Rishta zindagi bhar Mil gaye toh baate lambi Na mile toh yaade lambi.
Gulzar Shayari in English
Gulzar Shayari in English
  • “Dil mein kuch jalta hai, Shayad dhuan dhuan sa lagta hai. Aankh mein kuch Chubhta hai, Shayad sapna koi sulagta hai.”
  • Zindagi sasti hai sahab, Jeene ke tarike mahange hain
  • Bahut mushkil se karta hoon teri yaadon ka kaarobaar, munaafa kam hai lekin guzaara ho hi jaata hai!
  • Kaise Gujar Rahi Hai Sab Puchte Hain Kaise¸ gujarta hu Ҝoi Nahin puchta.

Gulzar Shayari Love in Hindi

Here is a collection of some of the heart touching Gulzar Shayari Love in Hindi. If you love reading Hindi Shayari then you will love our collection. Don’t miss out…

  • शाख़ों से टूट जाये वो पत्ते नहीं हम, आइना देख कर तसल्ली हुई, हम को इस घर में जानता है कोई। “
  • वो मोहब्बत भी तुम्हारी थी नफरत भी तुम्हारी थी, हम अपनी वफ़ा का इंसाफ किससे माँगते..वो शहर भी तुम्हारा था वो अदालत भी तुम्हारी थी.
  • आँधी से कोई कह दे की औक़ात में रहे !!
  • वक़्त रहता नहीं कहीं टिक कर, आदत इस की भी आदमी सी है। “
  • आप के बाद हर घड़ी हम ने आप के साथ ही गुज़ारी है तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, भेजी हैं
  • बेशूमार मोहब्बत होगी उस बारिश  की बूँद को इस ज़मीन से, यूँ ही नहीं कोई मोहब्बत मे इतना गिर जाता है!
Gulzar Shayari Love in Hindi
Gulzar Shayari Love in Hindi
  • शाख़ों से टूट जाये वो पत्ते नहीं हम, ज़िंदगी यूँ हुई बसर तन्हा, क़ाफ़िला साथ और सफ़र तन्हा। “
  • आप के बाद हर घड़ी हम ने आप के साथ ही गुज़ारी है हाथ छूटें भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते वक़्त की शाख़ से लम्हे नहीं तोड़ा करते
  • आँधी से कोई कह दे की औक़ात में रहे !! हम ने अक्सर तुम्हारी राहों में, रुक कर अपना ही इंतिज़ार किया।”
  • तुमको ग़म के ज़ज़्बातों से उभरेगा कौन,  ग़र हम भी मुक़र गए तो तुम्हें संभालेगा कौन!

Related- Romantic Status»


  • ज़मीं सा दूसरा कोई सख़ी कहाँ होगा ज़रा सा बीज उठा ले तो पेड़ देती है
  • शाख़ों से टूट जाये वो पत्ते नहीं हम, आप के बाद हर घड़ी हम ने, आप के साथ ही गुज़ारी है।”
  • आइना देख कर तसल्ली हुई हम को इस घर में जानता है कोई
  • शाम से आँख में नमी सी है आज फिर आप की कमी सी है
  • कौन शरमा रहा है आज, यूँ हमें फुर्सत में याद करके, हिचकियाँ आना तो चाह रही है, पर हिच-किचा रही है.
  • तन्हाई अच्छी लगती है सवाल तो बहुत करती पर,. जवाब के लिए ज़िद नहीं करती..
Gulzar Shayari Love in Hindi
Gulzar Shayari Love in Hindi
  • आँधी से कोई कह दे की औक़ात में रहे !! बहुत अंदर तक जला देती हैं, वो शिकायते जो बया नहीं होती।”
  • शाख़ों से टूट जाये वो पत्ते नहीं हम, मैंने दबी आवाज़ में पूछा? मुहब्बत करने लगी हो? नज़रें झुका कर वो बोली! बहुत।”
  • खता उनकी भी नहीं यारो वो भी क्या करते, बहुत चाहने वाले थे किस किस से वफ़ा करते !”
  • काई सी जम गई है आँखों पर सारा मंज़र हरा सा रहता है पहली मोहब्बत मुकदमे की तरह होती है ना खत्म होती है वरना इंसान को बाइज्जत बरी करती है।

Final Words

Gulzar is one of the most famous and revered poets of India. Although, he is not as popular in rest of the India as he is in Delhi. His shayaries are known for their lushness and deep sense of meaning. He always keeps his poems universal and makes people from any region connect to them.

bigenter.info brings you some of the best shayaries written and translated by him, so that you can skim through them anytime and be inspired by his words.

Advertisement

2 thoughts on “100+ (BEST) Gulzar Shayari on Love, Dosti in Hindi, English”

Comments are closed.

0 Shares
Tweet
Share
Pin
Share